Poems

Hindi Poem on Betiyan || 5+ बेटियों पर प्रसिद्ध कविताये

Hindi Poem on Betiyan:– दोस्तों आअज हमने बेटी पर कविताये लिखी है। आज हमारे इस पुरुष प्रधान समाज में अगर किसी के परिवार में लड़की पैदा होती है तो लोग उसे बोझ समझने लगते हैं। लेकिन वह व्यक्ति यह नहीं सोचता कि उसे भी लड़की ने ही जन्म दिया है। एक बेटी को बेटे की तरह समान रूप से स्वागत और प्यार किया जाता है। वास्तव में, वह परिवार में खुशी और खुशी लाती है। यह हिंदी कविता उन माता-पिता की भावनाओं को खूबसूरती से बयां करती है, जिन्हें एक बेटी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। में आशा करता हूँ की आपको हमारा लेख पसंद आएगा। 

Hindi Poem on Betiyan – बेटी के लिए कविता 

Poem on Beti in Hindi – बेटी पर कुछ सुंदर लाइनों

घर की जान होती हैं बेटियाँ
पिता का गुमान होती हैं बेटियाँ
ईश्वर का आशीर्वाद होती हैं बेटियाँ
यूँ समझ लो कि बेमिसाल होती हैं बेटियाँ।

बेटो से ज्यादा वफादार होती हैं बेटियाँ
माँ के कामों में मददगार होती हैं बेटियाँ
माँ-बाप के दुःखको समझे, इतनी समझदार होती हैं बेटियाँ
असीम प्यार पाने की हकदार होती हैं बेटियाँ।

बेटियों की आँखे कभी नम ना होने देना
जिन्दगी में उनकी खुशियाँ कम ना होने देना
बेटियों को हमेशा हौसला देना, गम ना होने देना
बेटा-बेटी में फर्क होता हैं, ख़ुद को ये भ्रम ना होने देना।


best short hindi poems

बेटी की प्यार को कभी आजमाना नहीं,
वह फूल है, उसे कभी रुलाना नहीं,
पिता का तो गुमान होती है बेटी,
जिन्दा होने की पहचान होती है बेटी।

उसकी आंखें कभी नम न होने देना,
उसकी जिन्दगी से कभी खुशियां कम न होने देना ,
उन्गली पकड़ कर कल जिसको चलाया था तुमने,
फ़िर उसको ही डोली में बिठाया था तुमने।

बहुत छोटा सा सफ़र होता है बेटी के साथ,
बहुत कम वक्त के लिये वह होती हमारे पास…!!
असीम दुलार पाने की हकदार है बेटी,
समझो भगवान् का आशीर्वाद है बेटी!


hindi poetry on beti bachao beti padhao

क्या हूँ मैं, और कौन हूँ , यही सवाल हमेशा करती हूँ मैं,
तुम लड़की हो, लाचार भी , मजबूर, बेचारी हो,

यही जवाब हमेशा सुनती हूँ मैं।।
बड़ी हुई तो , समाज की रस्मों को मेने पहचाना है ,

अपने सवाल का जबाब भी तब मेने खुद पाया
मै लाचार भी नही हूँ , मजबूर भी नहीं हूँ मैं,

और मै एक धधकती चिंगारी हूँ,छेड़ोगे तो जल जाओगें,
दुर्गा और काली में बनजाऊंगी ,

सम्मान हूँ परिवार का माँ-बाप का अभिमान मैं,
औरत के सभी रुपों में से सबसे प्यारा और अच्छा रूप हूँ ,

माँ ने जिसको प्यार से है पाला ,मै बेटी हूँ उस माँ की ,
पृथ्वी की उत्पत्ति का कारण हूँ में ,

रिश्तों को बांधने वाली मजबूत डोर हूँ में ,
जिसने हर मुश्किल में है संभाला मुझे ,
उस पिता की प्यारी बेटी हूँ ।।


मैं बोझ नहीं हूँ (Poem on Daughter in Hindi)

चिड़ियों के झुंड सी चहचहाती  है बेटियां,
पगड़ियों पर नीले पीले आचल उड़ाती है बेटिया।

आंगन की तुलसी बन कर घर को महकाती है बेटियां,
हसी ठिठोली कर सबका मन बहलाती है बेटियां।

पायल की रुनझन सी गुनगुनाती है बेटियां,
पानी सी निर्मल-स्वच्छ नजर आती हैं बेटियां।

क्यों देखते है इन्हे जमाने वाले,
किसी मकान को घर बनाती हैं बेटियां।


Poem on beti  bachao 

सब रोगों की दवा है बेटी,
जीवन की एक आस है बेटी

ममता का सम्मान है बेटी,
माता-पिता का मान है बेटी

आंगन की तुलसी है बेटी,
पूजा की कलसी है बेटी

सृष्टि है, शक्ति है बेटी,
दृष्टि है, भक्ति है बेटी

श्रद्धा है, विश्वास है बेटी
जीवन की एक आस है बेटी

यह भी पढ़े-

Sadak Suraksha Par Kavita || सड़क सुरक्षा पर लोकप्रिय कविताये

Himalaya Poem In Hindi || हिमालय पर 5 शानदार कविताये

Life Poetry in Hindi || ज़िंदगी पर कुछ शानदार कविताएं

Hindi Poem on Betiyan:-हां तो दोस्तों बेटियों पर कविता लिखा ये आर्टिकल केसा लगा। अगर अच्छा लगा तो आप हमे हमारे कमेंट में बता सकते है। और हां शेयर करना ना भूले। धन्यवाद। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!