Poems

Poem on Animals In Hindi || जानवरो पर 5+ सुन्दर कविताएं

नमस्कार, दोस्तों आज हम आप सभी के लिए Poem on Animals In Hindi पर एक शानदार कविताओं का संग्रह लाये है। आप सभ जानते है क अंतराष्ट्रीय पशु दिवस हर वर्ष 4 अक्टूबर को बनाया जाता है। ये दिन सभी पशुओ के लिए बड़ा ख़ास होता है क्योकि इस दिन लगभग सभी देशो में 7 दिन तक निशुक चिड़िया घर आदि जीवजंतु स्थान छात्रों को मुफ्त में घुमाया जाता है। ताकि ये सभी छात्र और दुनिया पशुओ के प्रति और उन्होकी सुरक्षा के प्रति जागरूक हो। दोस्तों ये पोस्ट बड़ी महेनत से लिखी गई हे। में ऐसी उम्मीद करता हूँ की आपको हमारा आर्टिकल पसंद आएगा।

Poem on Animals In Hindi – जानवरो पर कविता

Animals Poem In Hindi

शोर मचा अलबेला है,
जानवरों का मेला है!

वन का बाघ दहाड़ता,
हाथी खड़ा चिंघाड़ता।
गधा जोर से रेंकता,
कूकूर ‘भों-भों’ भौंकता।
बड़े मजे की बेला है,
जानवरों का मेला है।

गैा बँधी रँभाती है,
बकरी तो मिमियाती है।
घोड़ा हिनहिनाए कैसा,
डोंय-डोंय डुंडके भैंसा।
बढ़िया रेलम-रेला है,
जानवरों का मेला है!

Save Animals Poem in Hindi

अगर कहीं खो जाती मैं जंगल में
डरावनी आवाज संग होता मेरा बसेरा
रात में घने अन्धकार में
तो मैं डर जाती
फिर आते हाथी दादा
संग लाते भालू और बंदर मामा
पहले मैं थोड़ा घबराती
फिर उनको पास बुलाती
हो जाती मेरी उनसे यारी
फिर आती जो वनराज की बारी
करवाते वो भी जंगल की सवारी
जो समझती मैं उनकी बोली
और वह समझ जाते मेरी भाषा
फिर होती हम सब की एक परिभाषा
प्यार से होती हम सब की मस्ती
कभी बना लेती मैं घड़ियाल की भी कश्ती
गजराज घुमाते झरने पर
और चीते संग मैं रेस लगाती
तरह तरह की मैं आवाजें निकालती
अगर मैं जंगल में खो जाती

Short poem on Animals in hindi

एक बार जंग़ल में आक़र तो देख़ो
वन सें मन को लगाक़र तो देख़ो
जंगल के बिंना ज़ल जायेगी धरती
एक़ बार मंगल पर ज़ाकर तो देख़ो
काट जंगलो को सडक तुम बनातें
कभीं पेड एक तुम लग़ाकर तो देख़ो
काट जंगलो को शहर तुम ब़साते
जंगल मे घर तुम ब़साकर तो देख़ो
शहर की हवा हों गयी प्रदूषित
ताजी हवा कभीं ख़ाकर तो देख़ो
ज़ानवर रहते हैं शहरो मे ज्यादा
मुख़ोटे ज़रा तुम हटाकर तो देख़ो
एक बार जंगल में आक़र तो देख़ो
वन सें मन को लगाक़र तो देख़ो
जंगल कें बिना ज़ल जायेगी धरती
एक़ बार मंगल पर जाक़र तो देख़ो.

A poem on Animals in Hindi

 

जानवर हूँ,
इंसान ना समझ,
विश्वास कर ।

तेरे घर की,
रखवाली करूंगा,
आखिरी तक ।

तेरे घर की,
सुरक्षित रखूंगा,
बहू – बेटियाँ ।

तेरे घर का,
मान नहीं टूटेगा,
मेरे रहते ।

विश्वास कर,
जानवर ही हूँ मैं,
इंसान नहीं ।

Poem on Animals in Hindi for Class 9th

आगे-आगे चूहा दौड़ा,
पीछे-पीछे बिल्ली।
भागे-भागे, दोनों भागे,
जा पहुँचे वो दिल्ली।लाल किले पर पहुँच चूहे ने,
शोर मचाया झटपट।
पुलिस देखकर डर गई बिल्ली,
वापस भागी सरपट।

Also Read –

Raksha Bandhan Poem in Hindi

Poem on Unity in Hindi

Global Warming In Hindi Poem

Do you love animals? Or are you just interested in learning about them? If so, then you’ll want to check out our short poem on animals in Hindi post. In this post, we’ve collected a variety of Poem on animals in Hindi about animals that will teach you a lot about their behavior and characteristics. So whether you’re a fan of monkeys or dolphins, there’s sure to be something here for you!

हां तो दोस्तों आजका हमारा लेख Poem on Animals In Hindi केसा लगा।  करता हूँ की आप जानवरो के प्रति और उन्होकी सुरक्षा के प्रति जरूर जागरूक हुए होंगे। अगर ऐसा है तो दोस्तों हमारी पोस्ट को शेयर करना ना भूले। ताकि और लोग भी आपकी तरह ेज जिम्मेदार नागरिक बन सके। धन्यवाद।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!