Poems

Poem on Independence Day in Hindi || 15 अगस्त पर कविता

Poem on Independence Day in Hindi:- दोस्तों आज हम आपके लिए 15 अगस्त पर कविताएं लाये है। आप सब काफी अच्छे से जानते है की 15 अगस्त को हमारा भारत देश आजाद हुआ था। यही वो दिन है जब महात्मा गाँधी जी ने आजादी दिलाई थी। और आज भी हम इस दिन को बड़े धूम धाम के साथ मनाते है। इस दिन सभी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है। इस दिन सब 15 अगस्त शायरी कविताये एक दूसरे के साथ शेयर करते है। में उम्मीद करता हूँ की आपको हमारी पोस्ट पसंद आएगी।

Poem on Independence Day in Hindi – स्वतंत्रता दिवस पर कविता

Independence Day Poem in Hindi

भारत मेरा प्यारा देश,
सब देशो से न्यारा देश|
भारत मेरा प्यारा देश,
सब देशो से न्यारा देश|

हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई
मिलकर रहते सिख-ईसाई|
हिन्दू-मुस्लिम भाई-भाई
मिलकर रहते सिख-ईसाई|

इसकी धरती उगले सोना,
ऊँचा हिमगिरी बड़ा सलोना|
इसकी धरती उगले सोना,
ऊँचा हिमगिरी बड़ा सलोना|

सागर धोता इसके पाँव,
हैं इसके अलबेले गाँव|
सागर धोता इसके पाँव,
हैं इसके अलबेले गाँव|

भारत मेरा प्यारा देश,
सब देशो से न्यारा देश|

15 August Poem In Hindi

अगस्त का दिन है आया: स्वतंत्रता दिवस का पावन अवसर है:
स्वतंत्रता दिवस का पावन अवसर है,
विजयी-विश्व का गान अमर है।
देश-हित सबसे पहले है,
बाकि सबका राग अलग है।
स्वतंत्रता दिवस का……।
आजादी के पावन अवसर पर,
लाल किले पर तिरंगा फहराना है।
श्रद्धांजलि अर्पण कर अमर ज्योति पर,
देश के शहीदों को नमन करना है।
देश के उज्ज्वल भविष्य की खातिर,
अब बस आगे बढ़ना है।
पूरे विश्व में भारत की शक्ति का,
नया परचम फहराना है।
अपने स्वार्थ को पीछे छोड़ककर,
राष्ट्रहित के लिए लड़ना है।
बात करे जो भेदभाव की,
उसको सबक सिखाना है।
स्वतंत्रता दिवस का पावन अवसर है,
विजयी विश्व का गान अमर है।
देश हित सबसे पहले है,
बाकी सबका राग अलग है।।
……..जय हिन्द जय भारत।

15 August Desh Bhakti Kavita

वतन की खुशीयों की खातिर, अपना खून बहाये हो ।
मिलती रहेगी हमे प्ररेणा, हमारे दिलो में समाये हो ।।

दिलायी हमे आजादी, नभ में फैली है सूरज की लाली ।
प्रकृति भी गूंज उठी है, है पतन में आजादी की हरियाली ।।

है हम आजाद, देश में फैली है आजादी की खुशहाली ।
फर्ज है हमारा, मरते दम तक करें देश की रखवाली ।।

रहे देश सुरक्षित, करे प्रगति हमारा वतन ।
सुख शान्ति रहे देश में, करते रहे हम पुरे जतन ।।

होगा देश का विकास, जब निभायेगे अपने फर्ज ।
रहे तैयार देश सेवाखातिर, सुरेश करे है आपसे अर्ज ।।

poem on independence day in hindi for class 4th

मेरा वतन मेरी पहचान
यही मेरी मिल्कियत यही मेरी जान
जिस पर कर दे लाखों जा कुर्बान

ना जाने कितनी चूड़ियां टूटी
कितने कफन जले

ना मानी किसी ने हार ताकि
बनी रहे हमारे भारत की शान

सारे जग से निराली है
इसकी हरियाली
सोने की चिड़िया
कहलाने वाली

यही मेरा जान यही मेरा सम्मान
इसी से मेरा गौरव यही मेरा अभिमान..!

Poem on independence day in hindi language

भारत माँ के अमर सपूतो, पथ पर आगे बढ़ते जाना
पर्वत, नदिया और समन्दर, हंस कर पार सभी कर जाना

तुममे हिमगिरी की ऊँचाई सागर जैसी गहराई है
लहरों की मस्ती और सूरज जैसी तरुनाई है तुममे

भगत सिंह, राणा प्रताप का बहता रक्त तुम्हारे तन में
गौतम, गाँधी, महावीर सा रहता सत्य तुम्हारे मन में

संकट आया जब धरती पर तुमने भीषण संग्राम किया
मार भगाया दुश्मन को फिर जग में अपना नाम किया

आने वाले नए विश्व में तुम भी कुछ करके दिखाना
भारत के उन्नत ललाट को जग में ऊँचा और उठाना

Independence Poem in Hindi

15 August is a very special day for all of us. It is the day when Mahatma Gandhi got freedom for India from the British rule. And even today we celebrate this day with great pomp. independence poem in Hindi On this day everyone celebrates 15th August as Independence Day. On this day, everyone shares poetry with each other on 15 August Poem in Hindi. I hope you will like our post.

Poem on Independence Day in Hindi:- नमस्कार दोस्तों आज हम आप सभी के लिए स्वतंत्रता दिवस पर शानदार कविताओं का कलेक्शन लाये है। हमरे देश को आजादी दिलाने में ऐसे कई देश भक्त है। जिनकी वजह से आज हमारा देश आजाद हो पाया है जैसे :- भगत सिंह , सुखदेव, राजगुरु, गांधीजी, सुभाष चंद्र बोस आदि ऐसे काफी देश भक्त हुए जिन्होंने हमारे देश को आजादी की पटरी पर लाया। ऐसी ही कुछ कविताएं हमने आज आपके साथ शेयर की है जो इन देश भक्तो के जीवन पर आधारित है। में उम्मीद करता हूँ की आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!