Shayari

Rahat Indori Shayari in Hindi || दिल छू जाने वाली राहत इन्दोरी शायरी हिंदी में

नमस्कार, दोस्तों आज हम आप सभी के लिए हमारी Rahat Indori Shayari in Hindi का एक मजेदार कलेक्शन आपके साथ शेयर करने जा रहे है। जैसा की आप सभी भली भाति जानते है की डॉ राहत इन्दोरी सहाब विश्व विख्यात लेखकों में से उर्दू शायरियो के ज्ञाता थे। इन्होने अपने जीवन काल में ऐसी कई शायरिया, गजले, लिखी जिसने इन्होको उचाईयो के शिकार पर ले गए। वे ये अपनी गजल और शायरियो के माध्यम से काफी विख्यात भी हुए। तो आइये जानते है इस महान इंसान की कुछ चुनिंदा शायरियो के बारे में। अगर आप भी राहत इन्दोरी के प्रसंसक है तो आपको इन्होकी लिखी शायरी जरूर पसंद आएगी।

Rahat Indori Shayari in Hindi – राहत इन्दोरी शायरी इन हिंदी 

Shayari on rahat indori

इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है,

नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं।

मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए,

और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं।

जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे,

मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे।

फूलों की दुकाने खोलो , खुसबू का व्यापार करो,

इश्क़ खता है तो, इसे एक बार नहीं सौ बार कर।

फूक़ डालूगा मैं किसी रोज़ दिल की दुनिया,

ये तेरा ख़त तो नहीं है की जला भी न सकूं।

rahat indori love shayari in hindi

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,

लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के।

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर,

मगर हद से गुजर जाने का नईं।

बुलाती है मगर जाने का नईं,

ये दुनिया है इधर जाने का नईं।

दोस्ती जब किसी से की जाये,

दुश्मनों की भी राय ली जाये।

नींद से मेरा ताल्लुक़ ही नहीं बरसों से,

ख़्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यूं हैं।

rahat indori alone shayari – राहत इन्दोरी की शायरी 

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे

फिर भी मशहूर हैं, शहरों में फ़साने मेरे। 

देखो देखो जानम हम दिल अपना तेरे लिए लाये

सोचो सोचो दुनिया में क्यूँ आये, तेरे लिए आये। 

अपने हाकिम की फकीरी पे तरस आता है

जो गरीबों से पसीने की कमाई मांगे। 

कई दिनों से अंधेरों का बोलबाला है

चराग़ ले के पुकारो, कहां उजाला है

 

झूठों ने झूठों से कहा है सच बोलो

सरकारी एलान हुआ है सच बोलो

rahat indori shayari in hindi images

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है

चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर

जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया

घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा

मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे

नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो

rahat indori top 10 shayari in hindi

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए

मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं

मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है

उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते

एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे

जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे

यह भी पढ़े-

Heart Touching Gulzar Shayari || कवी गुलज़ार की लोकप्रिय शायरिया

हां तो दोस्तों आपको हमारी आजकी पोस्ट Rahat Indori Shayari in Hindi पर लिखा आर्टिकल केसा लगा। मुझे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट राहत इन्दोरी लव शायरी, said shayari पसंद आई होगी। अगर आपको हमारा लेख पसंद आया है। तो शेयर करना ना भूले। और हां राहत इन्दोरी की अगर कोई शायरी आपके जहन में है तो हमको जरूर बताये। धन्यवाद। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!