Poems

Suraj Poem on Sun In Hindi – सूरज पर 30+ लाजवाब कविताएं 

दोस्तों आज हमने Suraj Poem on Sun In Hindi पर लेख लिखा है। जैसा की आप सभी को बचपन से किताबो से मम्मी पापा दादा दादी से ऐसी कई पौराणिक कहानिया सुनने को मिली होगी। दोस्तों सूरज सौरमंडल का सबसे बड़ा तारा है। ये पृथ्वी से इतना बड़ा है की दस पृथ्वी उसमे समा जाए। और एक बात ये इतना चमकीला होता है की अगर इसकी रौशनी धरती पर नहीं आती है तो ये धरती ये पृथ्वी पल भर में बर्फ का गोला बन जायेगी और पृथ्वी से जीवन पल भर में समाप्त हो जाएगा। तो चलिए देखते है सूरज पर कुछ लाजवाब कविताएं।

Suraj Poem on Sun In Hindi – सूरज पर 30+ लाजवाब कविताएं 

suraj poem in hindi class 3

 

आँगन में काई है,
दीवारें चिकनीं हैं, काली हैं,
धूप से चढ़ा नहीं जाता है,
ओ भाई सूरज! मैं क्या करूँ?
मेरा नसीबा ही ऐसा है!खुली हुई खिड़की देखकर
तुम तो चले आए,
पर मैं अँधेरे का आदी,
अकर्मण्य…निराश…
तुम्हारे आने का खो चुका था विश्वास।पर तुम आए हो–स्वागत है!
स्वागत!…घर की इन काली दीवारों पर!
और कहाँ?
हाँ, मेरे बच्चे ने
खेल खेल में ही यहाँ काई खुरच दी थी
आओ–यहाँ बैठो,
और मुझे मेरे अभद्र सत्कार के लिए क्षमा करो।
देखो! मेरा बच्चा
तुम्हारा स्वागत करना सीख रहा है।

Poem About Sun In Hindi

 

सूरज आया,
सुनहरी प्रभात लाया

आसमान में बिखेर कर अपनी किरणे,
एक नए दिन का परचम लहरा रहा है

फूल खिल रहे हैं बागों में,
हो रहा है नए जीवन का आगाज

पंछी उड़ रहे हैं गगन में,
भिन्न-भिन्न आवाजों से नया गीत सुना रहे है

मीठी मीठी ठंडी ठंडी हवा चल रही है,
मंद मंद मुस्का के फसलें लहरा रही है

कल कल करती नदियाँ बह रही है,
झरने भी अनोखी राग सुना रहे है

धरा भी खुश होकर घूम रही है,
हर एक कोना रोशन हो रहा है

हो रहा है तेरा हर तरफ गुणगान,
कोई तुझे नमन करता तो कोई करता पूजा

संध्या होते छिप गया कही दूर गगन में,
छोड़ अपनी निशानी लाली आसमा में

Poem sun In Hindi – सूर्य पर कविता

 

सूरज निकला आसमान में,
ऊर्जा का भंडार भी साथ में लाएं

रोशन हो गया जग सारा,
अंधेरा हो गया कहीं गुम सारा

खुद जलता पृथ्वी को रोशन करता,
घर आंगन में खुशहाली लाता

जीवन का बन रक्षक,
रोज प्राणियों को ऊर्जा से नहलाता

अपनी उर्जा से वाष्प बना बादल बनाता,
जल को पूरी धरती पर फैलाता

बीमारियों को दूर भगा कर,
करता हर पल जीवन की रक्षा

गर्मियों में करता तेज धूप की बारिश,
लेकिन इसके पीछे भी छुपा, इसका एक नेक मकसद

सर्दियों में अपनी किरणों से राहत का मरहम लगाता,
खुद जलता, नहीं करता अपनी चिंता

सूरज निकला आसमान में,
साथ में जीवन का पैगाम लाया

Hindi Poem on Sun-

 

ऐसी जिंदगी भी क्या जिंदगी जिसमें डूबता हुआ सूरज ना हो,
खुशियां हो हजारों पर हार का मंजर ना हो|

ढलना उसकी किस्मत नहीं यह उसकी मांग है,
जहाँ बस विजय हो जिंदगी में यह कैसी उड़ान है,

हारना भी जरूरी है जनाब यह इस जमाने की मांग है,
जो उड़ता रहा हवाओं में सीखा उसने ख़ाक है,

गिर के संभलना ही तो है ज़िन्दगी की सबसे बड़ी कला है,
उड़ना तो हर किसी का अरमान है,

जो सिख गया इस बात को करते सभी उसको प्रणाम हैं,
डूबता हुआ सूरज है वो डूबना ही उसका कमा है|

शौक है उसका डूबना पर लौट के आता है वो,
उम्मीद का दरिया है हर रोज़ नई उम्मीद की किरण लाता है वो,

अगर ढलता वो रोज है,
तो उगता भी वो रोज है,

कभी घमंड नहीं करता है वो अपनी ऊंचाई का,
इसलिए डूबता भी वो रोज़ है||

मेहनत तो तुम्हे करनी है अगर करना अपना नाम है,
उसका क्या वो तो ढलता हुआ सूरज है, ढालना उसका काम है|

Sunrise Related Poem in Hindi

रोज सुबह को सूरज आकर,
सबको सदा जगाता हैं,
श्याम होई लाली फैलाकर,
अपने घर को ज्याता हैं,
दिनभर ख़ुद को जला जलाकर
ये उजाला फैलता हैं,
उसका जीना ही जीना हैं,
जो काम सभी के आता हैं।

 

Suraj Par Kavita Hindi Mai

 

सबसे तेज वाला
आग का एक बड़ा गोला है
इससे जन जीवन है
वरना धरती बर्फ का गोला है
इस से मिलती है ऊर्जा
इस से मिलती है प्रेरणा
इसको मानते हैं देवता
इसकी होती है अर्चना
हमारे शौर मंडल का सबसे बड़ा तारा
हाँ, ये तो है सूरज हमारा

There was a time when almost everyone on earth believed that the sun revolved around the earth. It was only after Galileo proved that the earth revolves around the sun that people began to change their minds. Even today, there are many myths and misconceptions about the poem about sun in hindi. In this blog post, we will explore some of the fascinating facts about our poem on sun in hindi!

Suraj Poem on Sun In Hindi: मुझे उम्मीद है की आपको हमारी सूरज पर कविता पोस्ट पसंद आई होगी। आप ये पोस्ट अपने छोटे भाई बहन को जरूर शेयर करे ताकि उन्होको बिधालय का होम वर्क करने में थोड़ी सहायता मिले। धन्यवाद।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!